CARONA VIRUS Cricket Entertainment Fashion Football International National NEWS Politics Sports Uncategorized अअनुबंधित आलेख करोना वायरस खेलकूद क्रिकेट टिपण्णी फैशन लाइफस्टाइल ब्रेकिंग न्यूज़ भ्रमण Travel मनोरंजन राजनीती देश राजनीती विश्व राशि फल Astrology वायरल ख़बरें वायरल वीडियो विज्ञानं व्यपार शिक्षा तकनीकी स्वास्थ्य होम

मजेदार वीडियो दिखा रहा हूं, इसमें एक बहुत बड़ा गायनोकोलॉजिस्ट पिता, अपने छोटे मासूम बेटी के सवालों के सामने,उसके उत्तर देने के पश्चात, यह मानने को राजी हो जाता है, वह ऐसा गायनाकोलॉजिस्ट है,जो कि मां के पेट से बच्चे नहीं निकालता, मां के पेट के गैस की जांच करता है, वीडियो देखिए और आनंद लीजिए

मजेदार वीडियो दिखा रहा हूं, इसमें एक बहुत बड़ा गायनोकोलॉजिस्ट पिता, अपने छोटे मासूम बेटी के सवालों के सामने,उसके उत्तर देने के पश्चात, यह मानने को राजी हो जाता है, वह ऐसा गायनाकोलॉजिस्ट है. जो कि मां के पेट से बच्चे नहीं निकालता, मां के पेट के गैस की जांच करता है, वीडियो देखिए और आनंद लीजिए, प्रोफेसर डॉ राम के जानेमाने भारत के बहुत प्रसिद्ध चिकित्सक और प्राध्यापक हैं मेडिकल कालेज में MBBS और MD MS की पढाई करने वाले स्टूडेंट्स को पढ़ते हैं और बहुत सरे ब्लॉग और पत्र पत्रिकाओं पर लिखते हैं,इस वीडियो चैनल पर वो आम जनता को तरह तरह के रोगो के बारे में बताएँगे और अभी करोना ने जो जहर फैलाया है उसने सभी लोगो को करोना चिंता फिक्र और मौत से डरा दिया है,पूरी दुनिया सुन्ना होकर करोना घर में बंद हो गयी है करोना के लिए लॉक डाउन क्यों जरुरी है, करोना की कोई दवा या टिका नहीं,इसलिए एक दूसरे से दूर रहने के लिए जरुरी है,अगर करोना हम घर से बहार जायेंगे तो कई लोगो से मिलेंगे क्यूंकि करोना एयर ड्रॉपलेट से फैल्ट इसलिए किसी के खाँसने,छींक आने से उनका थूक या बलगम हमारे मुँह नक् से हमारे में करोना आएगा इसलिए मास्क लगाना जरुरी है,और करोना दूर रहना जरुरी है,एक बार करोना रुक जायेगा तो फिर रुक जायेगा करोना,वैसे भी करोना ज्यादा लोगो ८०% में कोई लक्छण नहीं लता है,१०-१५% में छोटे लक्छण जैसे खांसी,सर्दी,नज़ला,हलकी भुखार आती है,पर अगर तेज बुखार हो सांस लेने में तकलीफ हो या ऑक्सीजन शरीर में काम हो,सांस तेज चले और अगर सुगंध या टेस्ट काम हो गए हो तो फिर करोना सोचना चाहिए,४-५% लोगो में करोना ख़राब हो कर हॉस्पिटल या फिर icu में भर्ती होने की नौबत लाता या फिर वेंटीलेटर की जरुरत होती इसलिए आप घबराएं नहीं डरे नहीं,धीरे धीरे बीमार होकर ठीक हुए व्यक्ति का प्लाज्मा करोना दे देते हैं उससे आराम हुआ है और भी एंटीबायोटिक्स,एंटीवायरल ,विटमिन सी ,ज़िंक और ीवेरमेकेटिन की दवा अच्छा काम करती है,पर ये सब दवा खुद नहीं लेनी है,रोगी को देखभाल करने वाले लोग को n95 मास्क लगा कर रखना चाहिए वो साधारण मास्क न लगाएं, उनको हाइड्रोक्सी च्लोरोक्विन की गोली भी देतें हैं,परन्तु डॉक्टर को पूछ कर क्यूंकि ये बुरा असर बच्चो पर,हार्ट के मरीज पर और आँखों के मरीज पर,आप इसका खुद इलाज नहीं करें ,आरोग्य सेतु अप्प अपने मोबाइल पर डाउन लोड करें और सर्कार की बात मानें,पुलिस या डॉक्टर पर हमला न करें उनसे डरे नहीं अगर बीमार है तो १४ दिन क्वारंटाइन में रहना पड़ेगा,यानि सबसे अलग जिससे ये आपके घर के लोगो या आसपास के लोगो में नहीं फैले .हमारे प्रधान मंत्री ने दो गज दुरी बना मास्क या गमछा लगाने को कहा उसे माने,किसी से हाथ गले न मिलायेमेक साथ शादी पार्टी या किसी जगह घूमने ना जाएँ सेक्स भी काम करें या न करें,पत्नी को हो सकता है,अच्छा पका कर भोजन करें,खुद व्याम करें खुद प्राणायाम करें अच्छी चीज नीबू,संतरा,सोडा का पानी,हल्दी डालकर दूध,अनारस,लहसुन,इत्यादि खाएं,गरम पानी पियें,बार बार सेनिटीज़र ७०% अल्कोहल या साबुन से हाथ धोएं बहार से आकर,बहार जाने के पहले,खाने और सोने तथा सोच करें के बाद और पहले हाथ धोएं और रत को सोएं अच्छी तरह से बीड़ी,दारू,नीद की गोली को न खाएं , उसी तरह से अगर कोई औरत प्रेग्नेंट हो तो न दरें उनको वही साबधानी बरतनी पड़ेगी जो की दूसरी सामान्य औरत करती है,माँ अगर संक्रमित नहीं हो तो दूध पिलायें , करोना में तीसरा लॉक डाउन कितना गंभीर होगा?,जीव जंतु बंद होने पर बाहर आने चाहते,घुट ते हुए आदमी लॉक डाउन में,गिरती अर्थ व्यस्था,कैसे बचाएं इसको,गरीब मजदूरों की सुनो,लॉक डाउन में ढील दे, कॅरोना के इलाज में वेंटीलेटर और ICU की जरुरत नहीं,घर पर दवा से करना ठीक होगा ,इटली में पोस्टमॉर्टेम के अध्ययन से इलाज बदला,अब एंटी कोगलांट या खून पतला करने वाली दवा काम करेगी,इससे खून की नालिया जम जाती हैं, फेफड़ो की कोशिकाओं में निमोनिया नहीं होता,अमेरिका नर्स ने कहा वेंटीलेटर से फयदा नहीं,९०% वेंटीलेटर पर आदमी मरते,जैसी खूनपतला और एंटी इंफ्लेमेटरी दवा एस्पिरिन काम कारगी,जो स्टेरॉयड लेते वो बच जाते,गठिया के बीमरी वाले आईसीयू नहीं जाते,मेक्सिको में तीन गोली एस्पिरिन खाने से एक फॅमिली ठीक हुयी,करोना में गर्मी आ रही,एयर कंडीशन नहीं चलाएं,नाइ की दुकान न जाएँ,पार्टी ज्यादा, मेल मिलाप न करें,गले न मिले,काम लोगो का संगोश्ठी करें,वायरस लम्बा रह सकता,पर हम मास्क लगाते,हाथ धोते रहें,सामजिक जीवन बदलें,रहन सहन बालें,हाथ बराबर धोएं,शादी,जनम,मृत्यु में कम आदमी बुलाएँ,बड़े आयोजन बंद करें,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *