Sports

IPL पर सितंबर में रिव्यू करेगा BCCI: लीग जारी रखना चाहती थी पंजाब की टीम, आकाश अंबानी और पार्थ जिंदल स्थगित करने के पक्ष में थे


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई16 मिनट पहलेलेखक: शीला भट्‌ट/बिक्रम प्रताप सिंह

  • कॉपी लिंक

इंडियन प्रीमियर लीग का 14वां सीजन आखिरकार कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के कारण स्थगित कर दिया गया। सोमवार और मंगलवार को 4 खिलाड़ियों, एक कोच और 2 सपोर्ट स्टाफ के पॉजिटिव होने के कारण लीग को 29 मैचों के बाद रोकने का फैसला लिया गया। BCCI उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला ने बताया कि बोर्ड अब सितंबर में रिव्यू करेगा कि IPL-2021 के बचे हुए 31 मैच कब कराए जा सकते हैं।

दैनिक भास्कर ने पूरे डेवलपमेंट पर करीबी नजर रखी और यह पता लगाया कि क्रिकेट बोर्ड के अधिकारी और फ्रेंचाइजीज किस तरह इस नतीजे पर पहुंचे कि लीग को स्थगित कर दिया जाए। पढ़िए एक्सक्लूसिव रिपोर्ट…

पंजाब टीम लीग जारी रखने के पक्ष में थी
IPL मैनेजमेंट और सभी फ्रेंचाइजी के बीच लीग के भविष्य पर चर्चा हुई। इसमें पंजाब की ओर से कहा गया कि उसके खिलाड़ी लीग को आगे भी जारी रखना चाहते हैं। हालांकि, दिल्ली कैपिटल्स फ्रेंचाइजी में इस बात पर दो राय थी। दिल्ली के एक खेमे का मानना था कि उनकी टीम के पास पहली बार चैम्पियन बनने का मौका है लिहाजा खेल जारी रहे। लेकिन, फ्रेंचाइजी के चेयरमैन पार्थ जिंदल मौजूदा माहौल में लीग को जारी नहीं रखना चाहते थे। इसी तरह मुंबई इंडियंस के आकाश अंबानी भी लीग स्थगित किए जाने के पक्ष में थे। इसी तरह बोर्ड अधिकारियों की राय भी बंटी हुई थी। लेकिन, आखिरकार जोखिम न लेते हुए लीग को स्थगित करने का फैसला लिया गया।

विदेशी खिलाड़ी नहीं रुकना चाहते थे
बोर्ड से जुड़े सूत्रों ने बताया कि लीग में शामिल विदेशी खिलाड़ी इस कठिन परिस्थिति में भारत में नहीं रुकना चाहते थे। लगभग तमाम टीमों में शामिल विदेशी खिलाड़ियों ने लीग को स्थगित करने की मांग की थी।

बचे मैचों के लिए विंडो निकालना बड़ी चुनौती, सिंतबर में कुछ दिन मिल सकते हैं
BCCI के लिए IPL-2021 को पूरा कराने के लिए कम से 20-25 दिनों का विंडो चाहिए। आने वाले महीनों में टीम इंडिया और बाकी टीमों के व्यस्त शेड्यूल के बीच इतने दिनों का विंडो निकालना काफी बड़ी चुनौती होगी। भारतीय टीम को जून में वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप का फाइनल खेलने इंग्लैंड जाना है। इसके बाद अगस्त-सितंबर में टीम इंग्लैंड के दौरे पर होगी। भारत को क्वारैंटाइन के नियमों को पूरा करने के लिए बीच जुलाई में ही फिर इंग्लैंड जाना होगा। अक्टूबर-नवंबर में वर्ल्ड टी-20 का आयोजन होना है। यानी सितंबर में इंग्लैंड दौरे की समाप्ति के बाद कुछ दिन जरूर मिल सकते हैं। BCCI उपाध्यक्ष ने भी सितंबर में ही रिव्यू की बात कही है।

वर्ल्ड टी-20 के बाद भारतीय टीम न्यूजीलैंड की मेजबानी करेगी। साल के अंत में भारत को साउथ अफ्रीका के दौरे पर जाना है। इसके बाद जनवरी से मार्च तक भारत को वेस्टइंडीज और श्रीलंका से सीरीज खेलनी है। फिर IPL-2022 का समय आ जाएगा। यानी BCCI को अगर IPL-2021 को पूरा कराना है तो किसी इंटरनेशनल सीरीज को रद्द करना होगा। ऐसा करने पर भी विदेशी खिलाड़ियों की भागीदारी सुनिश्चित कराना काफी मुश्किल होगा।

IPL से जुड़े लोगों की सुरक्षा पर समझौता नहीं करना चाहते थेः जय शाह
BCCI सचिव जय शाह ने लीग को स्थगित किए जाने के फैसले पर कहा कि बोर्ड IPL से जुड़े लोगों की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं करना चाहता था। इसलिए BCCI और IPL गवर्निंग काउंसिल ने आम सहमित से लीग को स्थगित करने का फैसला किया।

खबरें और भी हैं…

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *