Fashion

सेहत सुरक्षा: कोरोनाकाल में काफ़ी नहीं है स्वास्थ्य बीमा, अपने कवर को ‘टॉप अप’ से अपग्रेड करें ताकि कम ख़र्च में ज़्यादा कवर मिले


  • Hindi News
  • Women
  • Health Insurance Is Not Enough In Corona Times, Upgrade Your Cover From ‘Top Up’ To Get More Cover At Less Cost

तरुण पाहवा21 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • स्वास्थ्य और वित्तीय सुरक्षा के लिए अपडेट करें हेल्थ इंश्योरेंस प्लान। जीवन रक्षा कवच को बनाएं और मज़बूत।

कोरोनाकाल में इलाज पर ख़र्च जितनी तेज़ी से बढ़ रहा है, उसे देखते हुए वित्तीय सुरक्षा के लिए स्वास्थ्य बीमा की आवश्यकता भी बढ़ी है। लोगों के पास स्वास्थ्य बीमा तो है, लेकिन मौजूदा समय के लिए पर्याप्त नहीं है। बीमा ऐसा होना चाहिए जो इस कठिन वक़्त में वित्तीय सुरक्षा मुहैया कराए। ऐसे में अपने कवर को ‘टॉप अप’ से अपग्रेड कर सकते हैं, जो कम ख़र्च में ज़्यादा कवर देगा। टॉप अप क्या है और कैसे काम करता है, जानिए।

क्या है टॉप अप प्लान

टॉप अप प्लान मौजूदा हेल्थ कवर में एडऑन कवर के रूप में जाना जाता है जो कई बार चिकित्सा की लागत बढ़ने पर अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करता है। अधिकतर बीमा कंपनियां ग्राहकों को टॉप अप प्लान उपलब्ध कराती हैं। पॉलिसी ख़रीदने के लिए आयु 18 से 80 वर्ष के बीच होनी चाहिए। साथ ही टॉप अप हेल्थ प्लान उन लोगों के लिए कम क़ीमत पर उपलब्ध होता है जिनके पास पहले से ही स्वास्थ्य बीमा है। हालांकि यदि किसी व्यक्ति के पास वर्तमान में बीमा उपलब्ध नहीं है तो भी वह टॉप अप प्लान ले सकता है। ऐसी अवस्था में टॉप अप प्लान निश्चित सीमा के ऊपर की राशि के लिए लागू होगा।

दो तरह से ले सकते हैं

टॉप अप प्लान दो प्रकार के होते हैं और दोनों में मूलभूत अंतर क्लेम का होता है। सिंगल स्ट्रोक प्लान में सिर्फ़ मूल लिमिट के ख़त्म होने पर ही टॉप अप प्लान की बीमा राशि का उपयोग किया जा सकता है, जो एक ही क्लेम के लिए उपयोग हो सकती है, जैसे यदि एक व्यक्ति के पास एक मेडिक्लेम पॉलिसी 5 लाख रुपए बीमा राशि की है और 25 लाख की टॉप अप पॉलिसी है। इस बीमाधारक का कोई सिंगल क्लेम 20 लाख रुपए का आता है तो वह इस प्लान में देय होता है। लेकिन यदि क्लेम 5 लाख से कम राशि का आता है और दूसरा क्लेम 15 लाख का आता है तो वह देय नहीं होता है।

वहीं मल्टीपल स्ट्रोक प्लान में टॉप अप प्लान के बीमा धन का उपयोग अलग-अलग क्लेम राशि होने पर भी उपयोग किया जा सकता है। इसमें छोटी-छोटी राशियों का भी क्लेम आता है, मूल बीमा से कम राशि का क्लेम आता है, फिर बड़ी राशि का क्लेम भी आता है, तो वह देय होता है।

टॉप अप प्लान की प्रारंभिक राशि 3 लाख से 1 करोड़ तक होती है। कम समय में कम राशि में अधिक सुरक्षा प्रदान करता है।

ऐसे काम करेगा प्लान

यह मौजूदा हेल्थ पॉलिसी की बीमित राशि का पूर्ण ख़र्च होने की अवस्था में टॉप अप प्लान कार्य करता है। टॉप अप प्लान की प्रीमियम मौजूदा पॉलिसी की तुलना में काफ़ी कम होती है।

इसे एक उदाहरण से समझते हैं

  • मान लीजिए कि आपके पास 5 लाख रुपए की हेल्थ पॉलिसी है और 15 लाख रुपए की टॉप अप पॉलिसी है। किसी आपातकालीन स्थिति में अस्पताल में भर्ती होने पर यदि अस्पताल का बिल 9.50 लाख का आता है, तो 5 लाख का क्लेम मौजूदा पॉलिसी से और शेष 4.50 लाख का क्लेम टॉप अप प्लान से मिल सकता है।
  • मौजूदा हेल्थ प्लान की तुलना में टॉप अप प्लान सस्ता होता है। यह बुनियादी हेल्थ प्लान में प्राप्त होने वाले सभी लाभ प्रदान करता है। लेकिन यह तब उपयोग में आएगा जब मौजूदा पॉलिसी की लिमिट समाप्त हो जाएगी।
  • सामान्यत: लोगों के पास वर्तमान में 2 लाख से लेकर 7 लाख रुपए तक की हेल्थ पॉलिसी उपलब्ध होती है जो कि कई बार आपातकालीन परिस्थितियों में कम लगती है। ऐसे समय में टॉप अप पॉलिसी अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करती है। यदि इसे प्रीमियम के उदाहरण से समझें, तो एक परिवार के लिए एक टॉप अप पॉलिसी 10 लाख रुपए की अनुमानित 12 रुपए प्रतिदिन, 25 लाख रुपए की अनुमानित 20 रुपए प्रतिदिन में उपलब्ध होती है।

खबरें और भी हैं…

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *