Fashion

मंत्री बोले- औरतें लड़कर सिरदर्द की गोली लेती हैं: टेंशन लेने का नहीं बेबी, देने का- स्ट्रेस की वजह से पुरुषों से ज्यादा खिसयाती हैं महिलाएं, शादीशुदा युवतियां हैं ज्यादा तनाव में


  • Hindi News
  • Women
  • Women Are More Prone To Stress Than Men, Married Women Are Under More Stress, Rajasthan Education Minister Said, Women Fight So Much That They Have To Take Headache Medicine.

3 मिनट पहलेलेखक: निशा सिन्हा

  • कॉपी लिंक
  • गुस्से की वजह से हाई ब्लड प्रेशर और हार्ट अटैक की समस्या होती है।
  • गुस्से से हिंसक होने की आशंका भी बढ़ती है।

ऐसे कई अध्ययन हैं, जो बताते हैं कि गुस्से से तन और मन दोनों का नुकसान होता है। बढ़ता तनाव भी गुस्से की एक बड़ी वजह है। गुस्से को कंट्रोल करना सीखें साइकाएट्रिस्ट की मदद से।

इतना गुस्सा लेकिन क्यों

इतना गुस्सा लेकिन क्यों

अमेरिकन साइकोलॉजिकल एसोसिएशन की रिपोर्ट के अनुसार तनाव का स्त्री और पुरुष दोनों पर अलग असर होता है। स्टडी में पाया गया कि तनाव की वजह से 45% पुरुष और 46% महिलाओं को गुस्सा आया। महिलाओं में चिड़चिड़ाहट भी पुरुषों से अधिक देखी गई। साइकोलॉजिस्ट ने स्वीकारा कि महिलाओं के गुस्सा होने की सबसे बड़ी वजह स्ट्रेस है। इतना ही नहीं शादीशुदा महिलाओं को बच्चियों और किशोरियों से अधिक गुस्सा आता है।

रोने से प्रॉब्लम सॉल्व नहीं होता, हल निकालना सीखें

रोने से प्रॉब्लम सॉल्व नहीं होता, हल निकालना सीखें

तनाव तोड़ रहा औरतों को
वैसे तो महिलाओं पर तनाव का सबसे बुरा असर गुस्से के रूप में नजर आता है। लेकिन गुस्से के अलावा भी महिलाओं को पुरुषों से अधिक मानसिक खामियाजा भुगतना पड़ता है। परेशान महिलाओं को (44%) पुरुषों (15%) से अधिक आंसू बहाते देखा गया। गुस्सा होने और रोने के अलावा तनाव की वजह से युवतियों के शरीर पर भी कई खराब प्रभाव पड़ते हैं। महिलाओं में सिरदर्द और पेट से जुड़ी समस्याएं पुरुषों से अधिक होती है।

तनाव में महिलाएं पूजापाठ करती हैं

तनाव में महिलाएं पूजापाठ करती हैं

स्ट्रेस मैनेज करने में स्मार्ट है वुमन
स्ट्रेस से बचने का हर किसी का अपना स्टाइल है। ज्यादातर युवतियां तनाव में होने पर परिवार के साथ रहना चाहती हैं, किताबें पढ़ कर तकलीफों को भूला देना चाहती है और भगवान को याद करती हैं। लड़के तनाव से दूर रहने के लिए गाना सुनते हैं। लड़कों का मस्तमौला अंदाज यहां भी नजर आता है। अगर गाना सुनने का मन नहीं है, तो एक्सरसाइज या वॉक के लिए निकल जाते हैं। लड़के तनाव में हो, तो खेलने (16%) भी निकल पड़ते हैं जबकि ऐसा करने वाली लड़कियों की संख्या (4%) बहुत ही कम है। तनाव होने पर महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक खाना खाती हैं। इस कारण अनहेल्दी फूड्स भी खा लेती है।

आप भी ऐसा करते हैं क्या

आप भी ऐसा करते हैं क्या

गुस्से का साइड इफेक्ट है खतरनाक
गुस्से का सीधा संबंध हिंसा से है। नेशनल क्राइम कंट्रोल ब्यूरो की रिपोर्ट के अनुसार 2018 में महाराष्ट्र में गुस्से से होने वाले साइबर क्राइम के सबसे अधिक मामले पाए गए। इसके बाद उत्तर प्रदेश का नंबर आता है। उत्तराखंड राज्य तीसरे नंबर पर है। यहां इस तरह से होने वाले मामले दर्ज किए गए। बहुत सारी स्टडीज में यह भी पाया गया है कि सुसाइड की एक बड़ी वजह गुस्सा भी है। पंचकुला स्थित पारस हॉस्पिटल की साइकाएट्रिस्ट डॉ. कृति आनंद गुस्से को काबू करने का टिप्स बता रही हैं –

समाधान आपको गुस्से से निकलने में मदद करेगा

समाधान आपको गुस्से से निकलने में मदद करेगा

गुस्से को कंट्रोल करना सीखें

  • गुस्सा कंट्रोल करने के लिए मेडिटेशन सबसे बढ़िया उपाय है। यह तनाव कम करने के साथ -साथ ब्रेन को रिलैक्स करने का काम भी करता है। तनाव महसूस होते ही ध्यान में मन लगाएं।
  • एक्सरसाइज भी तनाव कम करने में मदद करेगा। इससे फील गुड हारमोन एंडोर्फिन रिलीज होता है। 10 मिनट के लिए योगासन या फिर जंपिंग जैक जैसे एक्सरसाइज करके देखें।
  • क्रिएटिव कामों को करने में मन लगाएं। बागवानी, पेंटिंग जैसी हॉबी में खुद को इंगेज रखने से तनाव दूर रहेगा।
  • महिलाओं को खुद के लिए भी समय निकालना चाहिए। कई बार परिवार के हर व्यक्ति की समस्या को सुलझाते समय वह अपनी तकलीफों को भूल जाती है।

खबरें और भी हैं…

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *